शिव जयन्ती एवं आध्यात्मिक समारोह

अच्छे एवं संस्कारवान पीढ़ी के लिए ब्रह्माकुमारी ईशवरीय परिवार से जुड़ें- डाॅ. प्रेमसाय सिंह प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईशवरीय विश्व द्यालय द्वारा संचालित गीता पाठशाला परसडीहा के तत्वाधान में आयोजित शिव जयन्ती एवं आध्यात्मिक समारोह के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित स्कूल शिक्षा मंत्री छत्तीसगढ़ शासन माननीय डाॅ. प्रेमसाय सिंह ने आध्यात्मिक समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि चरित्र निर्माण, संस्कार निर्माण और भविष्य निर्माण में संस्था अविशवसनीय एवं सराहनीय कार्य कर रही है। ब्रह्माकुमारी बहनें देवी के रूप में अवतरित होकर शिव पिता द्वारा निर्देषित इस पुनीत कार्य को कर रहीं हैं। माननीय शिक्षा मंत्री नें सभी समारोह में उपस्थित लोगों को संस्था का महत्व एवं राजयोग का महत्व बताते हुए आहवान किया कि सभी संस्था से जुड़ कर लाभ उठाएं तथा अपनें मनुष्य जीवन को सार्थक करें। उन्होंने संस्था के प्रति आभार व्यक्त किये कि हमें इस पावन कार्य के लिए भागीदार बनाया। सरगुजा संभाग प्रमुख राजयोगिनी बी के विद्या दीदी ने संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान समय में अभी नैतिकता का पतन हो रहा है, नैतिक मूल्यों की अति आवशयकता है। यही धर्मग्लानि का समय है जब गीता में भगवान नें वादा किया था कि जब जब धर्म की ग्लानि होती है, मैं सृष्टि पर आता हूं। वर्तमान समय में परमात्मा नैतिक मूल्यों की शिक्षा के लिए धरती पर अवतरित हो चुके हैं, इसी की यादगार पर हम शिवरात्री मनाते हैं। हमें आध्यात्मिक ज्ञान द्वारा बुराईयों रूपी अक-धतूरे को शिव पर अर्पण कर जीवन मूल्यों को धारण कर इस पर्व को सार्थक बनाना है। इस आध्यात्मिक समारोह में मुख्य अतिथि के साथ विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी राम ललित पटेल, जनपद अध्यक्ष वाड्रफनगर, स्थानीय पंचायत प्रतिनिधि एवं भारी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।